Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

*पयसी प्रवक्ता*

– डॉ अरुण कुमार शास्त्री
विषय- माँ के बिना जीवन व्यर्थ है
विधा – पद्य
शीर्षक – पयसी

जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।
माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।

जातक की निर्मूल अवस्था,
माता उसका मूल्यांकन ।
जो कोई बांचे जो कोई जांचें,
परिभाषित समूल है ।

बिना मूल के तरु तिरस्कृत,
त्रिशंकु सा कहलाता है ।
जुड़ा हुआ जो वृक्ष जड़ों से,
जगत में अति भव्य शोभा पाता है ।

व्यक्ति के जन्मोत्सव का निर्माण,
स्थापित होना स्वाभाविक हो जाता है ।
कर्म कांड पर आधारित है,
जगत व्यवस्था नभ स्थल की ।

इस अवसर से उपलब्ध प्रक्रिया,
को गुरु संदेश भी जाता है ।
यूं तो मानव सभ्यता के,
आदि की अटकल अचल अघोर हैं ।

जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।
माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।

तेरा मेरा इसका उसका,
अर्थ निगोड़ा निरगुण का हिस्सा है ।
तकनीकी विकास में लेकिन,
ये सब बहुत जरूरी रस्ता है

राह सुनिश्चित जीवन का उद्देश्य,
हो निश्चित यही ठीक सा लगता है ।
जननी सुरक्षा से अधिक सुरक्षित
जगत में होता कौन है ।

माँ का स्थान सर्वाधिक प्रतिष्ठित,
यही बतलाता व्योम है ।

1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
Rj Anand Prajapati
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
2989.*पूर्णिका*
2989.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
टपरी पर
टपरी पर
Shweta Soni
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
Stop chasing people who are fine with losing you.
Stop chasing people who are fine with losing you.
पूर्वार्थ
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
दरदू
दरदू
Neeraj Agarwal
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
यही प्रार्थना राखी के दिन, करती है तेरी बहिना
gurudeenverma198
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
मैंने जलते चूल्हे भी देखे हैं,
मैंने जलते चूल्हे भी देखे हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोहे- चार क़दम
दोहे- चार क़दम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
जब तक ईश्वर की इच्छा शक्ति न हो तब तक कोई भी व्यक्ति अपनी पह
Shashi kala vyas
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
सच की माया
सच की माया
Lovi Mishra
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
Loading...