Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2017 · 1 min read

पद्मिनी की मर्यादा

” पद्मिनी की मर्यादा ”
“””””””””””””””””””””””””””””””””””””

उस जौहर व्रत की अग्नि में ,
पद्मा ने खुद को हवन किया |
वो नारी थी ,वो सबला थी ,
शक्ति को जिसने प्रबल किया ||

कामुक खिलजी की कामुकता ,
खुद उसके मन में धरी रही |
पद्मा कूदी जौहर में पर !
मर्यादा उसकी हरी रही ||

वो पद्मा थी ,वो ज्वाला थी ,
और गढ़-चित्तौड़ का मान थी |
मर्यादा थी उसको प्यारी ,
वह आन-बान और शान थी ||

आज बना कलयुग का खिलजी !
वह संजय लीला भंसाली |
पद्मा जैसी माँ -बेटी को !
वो कलुषित कर देता गाली ||

खुले सांड सा घूम रहा है ,
वह लेकर फिल्मी अफसाने |
कदम-कदम पर खड़े हैं रक्षक !
ऐसे खिलजी को दफनाने ||

“”””””””””””””””””””””””””””””””””””
(डॉ०प्रदीप कुमार “दीप”)
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””

Language: Hindi
549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
भूख 🙏
भूख 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मॉं भजनों को सुन-सुन कर, दौड़ी-दौड़ी आ जाना (गीत)*
*मॉं भजनों को सुन-सुन कर, दौड़ी-दौड़ी आ जाना (गीत)*
Ravi Prakash
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
*कड़वाहट केवल ज़ुबान का स्वाद ही नहीं बिगाड़ती है..... यह आव
Seema Verma
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यारा ग़म नहीं
यारा ग़म नहीं
Surinder blackpen
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
लिखने – पढ़ने का उद्देश्य/ musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
गीत
गीत
Shiva Awasthi
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
प्रीत तुझसे एैसी जुड़ी कि
Seema gupta,Alwar
हम संभलते है, भटकते नहीं
हम संभलते है, भटकते नहीं
Ruchi Dubey
लिखते रहिए ...
लिखते रहिए ...
Dheerja Sharma
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
मेरी भैंस को डण्डा क्यों मारा
gurudeenverma198
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपनी और अपनों की
अपनी और अपनों की
*Author प्रणय प्रभात*
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब-जब मेरी क़लम चलती है
जब-जब मेरी क़लम चलती है
Shekhar Chandra Mitra
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
मईया रानी
मईया रानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“मेरी कविता का सफरनामा ”
“मेरी कविता का सफरनामा ”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...