Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

पद्मावती पिक्चर के बहाने

देश मेरा क्यों जल रहा, धूं धूं करके आज
भूले सब संवेदना, राजनीति बस काज।
राजपूत की शान को, कहें लगी है ठेस
पद्मावती पर जो बनी, पिक्चर एक विशेष।

कथा अभी देखी नहीं, नहीं विषय का ज्ञान
बस विरोध करना रहा, अल्पज्ञों को ध्यान।
नाक काट देंगे सुनो, अभिनेत्री की आज।
कितनी ऊँची बात यह, कही वाह महाराज!

राजपूत की शान भी हुई कलंकित जान
नारी के अपमान की, सुने बात जब कान।
नारी के सम्मान हित , गए जान पर खेल
ऐसी ओछी बात वे , गए किस तरह झेल?

हमलावर खिलजी रहा, हिंदुस्तानी जाग
तू खुद अपने देश में, फिरे लगाता आग?
स्वार्थ सदा सर्वोपरि , राजनीति उद्देश्य
क्यों भेड़ों के झुंड से, हम चलते असहाय ।

इस से महती बहुत, प्रश्न जल रहे आज
उत्तर देने का कोई, क्यों न करे प्रयास।
पद्मावती को पूजते, तुम उसकी संतान
निसिदिन लुटती नारियाँ, सोते चादर तान ?

या फिर नारी के लिए, बची एक ही राह
जौहर कर ले, जल मरे, चल पद्मावती राह।
विवश हुई रजपूतनी , हमलावर अनजान
अपने घर के खिलजियों, ने लूटी अब आन।

किन्तु प्रश्न यह गौण है, पिक्चर प्रश्न महान
जौहर करती नारियाँ, बढ़ती रहती शान।
मेरा देश महान, सभी करो गुणगान।

डॉ मंजु सिंह गुप्ता

102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
गुमनाम 'बाबा'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2992.*पूर्णिका*
2992.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
"संविधान"
Slok maurya "umang"
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
डर का घर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
*लय में होता है निहित ,जीवन का सब सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सपनों का सफर
सपनों का सफर
पूर्वार्थ
खो गईं।
खो गईं।
Roshni Sharma
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
"सम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी नौजवान से
किसी नौजवान से
Shekhar Chandra Mitra
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
मनका छंद ....
मनका छंद ....
sushil sarna
Loading...