Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

*पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)*

पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है (गीतिका)
_________________________
(1)
पत्नी माँ भी है, पत्नी ही प्रेयसी है
पत्नी जीवन के, हर मोड़ की हॅंसी है
(2)
जीवन के राग-रंग, वेद की ऋचाऍं
पत्नी इन सबके हर प्रष्ठ में बसी है
(3)
बच्चों के ऊधम, उपवासी-सॉंसों में
शांत कभी सरिता, तो बाढ़ में फॅंसी है
(4)
आजादी तो है, लेकिन अनुशासन की
वीणा के तारों-सी हर समय कसी है
(5)
खटती है दिन-भर, दफ्तर में जा-जाकर
सुबह-शाम चूल्हे की, किंतु बेबसी है
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा,रामपुर (उ.प्र.)
मोबाइल 9997615451

1 Like · 116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
सिखों का बैसाखी पर्व
सिखों का बैसाखी पर्व
कवि रमेशराज
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
हवा चली है ज़ोर-ज़ोर से
Vedha Singh
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
कृष्णा सोबती के उपन्यास 'समय सरगम' में बहुजन समाज के प्रति पूर्वग्रह : MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Sometimes you shut up not
Sometimes you shut up not
Vandana maurya
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
प्रभु राम नाम का अवलंब
प्रभु राम नाम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2496.पूर्णिका
2496.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ Rãthí
"बड़ी बातें करने के लिए
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ईश्वर का प्रेम उपहार , वह है परिवार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
नयनों का वार
नयनों का वार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-258💐
💐प्रेम कौतुक-258💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
था जब सच्चा मीडिया,
था जब सच्चा मीडिया,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
Loading...