Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 2 min read

पत्नी-स्तुति

हरि रूठ पड़े तो तुम हर पल, तत्पर रहती दुख हरने को,
जीवन में साथ तुम्हारा जब, फिर रही बात क्या डरने को,
तुमसे दूरी जब बढ़ती है, मैं कांति-हीन हो जाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।1।।

लिखता हूँ तुमसे प्रेरित हो, मैं कवि तुम मेरी कविता हो,
तुझ बिन मुझमें है तेज कहाँ, मैं चंद्र और तुम सविता हो,
तुमने मुझमें जो ज्योति भरा, बस वही जगत तक लाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।2।।

सावित्री पत्नी थी जिसने, यम से पति वापस पाया था,
तुलसी को उनकी रत्ना ने, ही तुलसीदास बनाया था,
हे! मन-श्वेता, हे! श्याम वदन, मैं काली दास कहाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।3।।

लेखक कवि जन जो बड़े-बड़े, महिमा को तेरी जाने हैं,
थे हास्य-व्यंग्य में ताज व्यास, परमेश्वर तुमको माने हैं,
उनसे हटकर हर पल तुमको, मैं हरि से ऊँचा पाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।4।।

हूँ राम नहीं मैं कर्मों से, फिर भी तुम मेरी सीता हो,
छूकर जिसको मैं धन्य हुआ, पावन पवित्र वह गीता हो,
सूर्योदय से पहले उठकर, नित दरश तुम्हारे पाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।5।।

घरनी बिन भूत का’ डेरा घर, यह ज़ुमला बहुत सुनाते हैं,
‘है नारि जहाँ पूजी जाती, उस जगह देवता आते हैं’,
तुझको देवी कह प्राण प्रिये, मैं स्वयं देव हो जाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।6।।

मुझमें तुझमें है फर्क बड़ा, मैं नर हूँ अरु तुम नारी हो,
मैथिलीशरण का कहना है, दो मात्राओं से भारी हो,
तुमसे जब-जब तुलना होती, मैं ऊपर उठता जाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।7।।

खुशियाँ बिखेरती आयी हो, गम होगा तेरे जाने से,
यदि चढ़ जाएँ तेवर तेरे, कंकड़ मिलते हैं खाने से,
मैं सजा आरती की थाली, लो अगर कपूर जलाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।8।।

यह निडर लेखनी बनी रहे, अब ऐसी गोट लगाना तुम,
इन उल्टी-सीधी बातों को, सुन कर के चोट न खाना तुम,
कुछ क्लेश है, मन में द्वेष नहीं, मैं कसम तुम्हारी खाता हूँ।
हे! पापा जी की पुत्र-वधू, मैं तुमको शीश झुकाता हूँ।।9।।

कवि―
© नन्दलाल सिंह ‘कांतिपति’,
ग्राम―गांगीटीकर पड़री, पोस्ट―किशुनदेवपुर, जनपद―कुशीनगर, उत्तर प्रदेश, भारत. पिन―274401, चलभाष―09919730863.

1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
आजकल गजब का खेल चल रहा है
आजकल गजब का खेल चल रहा है
Harminder Kaur
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
जिंदगी और जीवन भी स्वतंत्र,
Neeraj Agarwal
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
Shweta Soni
"हैसियत"
Dr. Kishan tandon kranti
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
3161.*पूर्णिका*
3161.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
Dinesh Kumar Gangwar
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
प्रेम.....
प्रेम.....
शेखर सिंह
*
*"नरसिंह अवतार"*
Shashi kala vyas
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
Rituraj shivem verma
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चाँद पूछेगा तो  जवाब  क्या  देंगे ।
चाँद पूछेगा तो जवाब क्या देंगे ।
sushil sarna
Loading...