Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

पत्नी की प्रतिक्रिया

एक दिन
मैंने अपनी पत्नी से कहा—
प्रिये!
तुम भोजन बहुत ही बढ़िया बनाती हो
घर को बड़े ही सलीके से सजाती हो
हो इतनी हँसमुख
कभी देती नहीं गाली
सभी पड़ोसनों से कम हो काली
यह सच है कि तुम
मुझे हर तरह से भायी हो
पर दुख इस बात का है कि
संग दहेज नहीं लाई हो
इतना सुनकर पत्नी मुस्कुरायी
मेरे और करीब आयी
सीने से लग कर बोली―
प्राणनाथ!
मैंने जो कुछ भी लाया है
उसे आप ही ने तो सहेजा है
मैं आपकी पत्नी हूँ
और भली-भाँति से जानती हूँ कि
आपने अपनी बहन को
क्या-क्या देकर भेजा है।

1 Like · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
कायम रखें उत्साह
कायम रखें उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
अगर कुछ करना है,तो कर डालो ,वरना शुरू भी मत करना!
पूर्वार्थ
जै जै जग जननी
जै जै जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
3562.💐 *पूर्णिका* 💐
3562.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सखि आया वसंत
सखि आया वसंत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
सत्य कुमार प्रेमी
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
*शाकाहारी भोज, रोज सब सज्जन खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
VINOD CHAUHAN
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
शीर्षक - मेरा भाग्य और कुदरत के रंग
Neeraj Agarwal
अक्सर सच्ची महोब्बत,
अक्सर सच्ची महोब्बत,
शेखर सिंह
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*प्रणय प्रभात*
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
चलो चलें बौद्ध धम्म में।
Buddha Prakash
कहे महावर हाथ की,
कहे महावर हाथ की,
sushil sarna
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
Loading...