Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#11 Trending Author
Aug 9, 2016 · 1 min read

पत्थर दिल

लोग कहते हैं मुझे पत्थर दिल

जिन्दा तो हूँ पर जीवन रहित

अब ये सच लगता है मुझे भी

डरने लगी हूँ अपनी ही परछाई से भी

टकरा कर छोटे बड़े पाषाणों से

पत्थर सा दिखने लगा है ये तन

खाकर इनसे ठोकरें बार बार

टूट सा गया है ये मन

पर सच तो है ये भी

न हो भले ही पत्थर में जीवन

पर टकराते है जब वो आपस में

दे देते हैं संगीतमय तरंग

तराशे जाते हैं

जब सधे हाथों से

भर जाता है सौंदर्य से

इनका कण कण

हाँ मैं भी हूँ ऐसी ही पत्थर दिल

जिसमें प्राण भी है और जीवन भी

संगीत भी है और सौंदर्य भी

बस तराशने वाला कोई जाये मिल

– डॉ अर्चना गुप्ता

4 Comments · 399 Views
You may also like:
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
माटी
Utsav Kumar Aarya
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
कामयाबी
डी. के. निवातिया
जिंदगी का काम  तो है उलझाना
Dr. Alpa H. Amin
दिल का करार।
Taj Mohammad
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लांगुरिया
Subhash Singhai
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
मांँ की लालटेन
श्री रमण
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
Loading...