Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

पत्थरों की कहानियाँ लिख दो

पत्थरों की कहानियाँ लिख दो
ख़ुश्क आँखों रवानियाँ लिख दो

फ़िर वही तज़करा एे ज़िंदगानी
बुढ़ी क़लमों जवानियाँ लिख दो

लिख दो तालाब सूखने को हैं
बारिशों की कहानियाँ लिख दो

टूट जाये सदी की ख़ामोशी
इक क़दर बे’ज़ुबानियाँ लिख दो

अब क़लम ने कह दिया ‘नासिर’
तुम भी अपनी निशानियाँ लिख दो

– नासिर राव

1 Comment · 628 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
"खुशी"
Dr. Kishan tandon kranti
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
Love
Love
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
नेता जी
नेता जी
surenderpal vaidya
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
बंदिशें
बंदिशें
Kumud Srivastava
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Phool gufran
Asan nhi hota yaha,
Asan nhi hota yaha,
Sakshi Tripathi
फितरत है इंसान की
फितरत है इंसान की
आकाश महेशपुरी
3 *शख्सियत*
3 *शख्सियत*
Dr Shweta sood
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
क्युं बताने से हर्ज़ करते हो
Shweta Soni
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
गर्द चेहरे से अपने हटा लीजिए
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Loading...