Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

पड़ जाओ तुम इश्क में

आदमी दीवाना हो जाता है
जब पड़ता है वो इश्क में
मिले कभी गम कभी खुशी
यही तो मज़ा होता है इश्क में

जान जायेगा तू भी कि
मिलता है कितना सुकून इश्क में
हो महबूब गर सामने तेरा
कोई और इच्छा नहीं रहती इश्क में

कभी आंसू, कभी हसीं
कभी विरह की वेदना है इश्क में
अब और क्या चाहूं मैं
दोनों जहां मिल जाते है इश्क में

सिमटता नहीं है कभी
सारा संसार अपना हो जाता है इश्क में
क्यों इकट्ठा करने में लगे हो ये बारूद
जीत जाओगे संसार, बस पड़ जाओ इश्क में

रची है जिसने ये सृष्टि
पड़ जाओ तुम उसके इश्क में
रचा है जिसको उसने, फिर
पड़ जाओगे तुम उसके भी इश्क में

वही संत हो सकता है यहां
जो पड़ गया है किसी के इश्क में
दुनिया से क्या लेना उसको
सब कुछ तो मिल गया है इश्क में

इश्क के सिवा कोई और
इच्छा नहीं रह जाती है इश्क में
बनना चाहते हो बैरागी तो
तुम पड़ जाओ किसी के इश्क में

भूल जाओगे घृणा, क्रोध
और इंसानियत के सभी दुश्मनों को इश्क में
हर दिल में दिखेंगे ईश्वर तुम्हें
बस एक बार पड़कर देख लो तुम इश्क में।

Language: Hindi
12 Likes · 4 Comments · 985 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
उनको मेरा नमन है जो सरहद पर खड़े हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
रमेशराज के कहमुकरी संरचना में चार मुक्तक
कवि रमेशराज
बोलती आंखें🙏
बोलती आंखें🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
*नज़ाकत या उल्फत*
*नज़ाकत या उल्फत*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
कोई किसी से सुंदरता में नहीं कभी कम होता है
Shweta Soni
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
मदहोशी के इन अड्डो को आज जलाने निकला हूं
कवि दीपक बवेजा
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
Ravi Prakash
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
People will chase you in 3 conditions
People will chase you in 3 conditions
पूर्वार्थ
आप करते तो नखरे बहुत हैं
आप करते तो नखरे बहुत हैं
Dr Archana Gupta
' जो मिलना है वह मिलना है '
' जो मिलना है वह मिलना है '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
"वेश्या"
Dr. Kishan tandon kranti
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...