Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल “हृद

पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल “हृदय” ही एक ऐसा अंग है जो निरन्तर कार्यरत रहता है।

1 Like · 333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
मां की कलम से!!!
मां की कलम से!!!
Seema gupta,Alwar
लड़कों का सम्मान
लड़कों का सम्मान
पूर्वार्थ
"बोलते अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
क्यों इन्द्रदेव?
क्यों इन्द्रदेव?
Shaily
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
काल  अटल संसार में,
काल अटल संसार में,
sushil sarna
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ हाइकू पर हाइकू।।
■ हाइकू पर हाइकू।।
*Author प्रणय प्रभात*
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
वहाँ से पानी की एक बूँद भी न निकली,
शेखर सिंह
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
गहरे ध्यान में चले गए हैं,पूछताछ से बचकर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
योग न ऐसो कर्म हमारा
योग न ऐसो कर्म हमारा
Dr.Pratibha Prakash
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
Lohit Tamta
होली
होली
Kanchan Khanna
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
Loading...