Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

पंखा

भोर काल से संध्या तक
चलता रहता है यह पंखा
दादी मा को भावे
मंद मंद चलता पंखा
आरव, आरवी यश यशी
और आश्विक का यह प्यारा पंखा
लड़ झगड़ कर सो जाते ये
ज़ब चलता रहता इनको पंखा
अम्मा बाबू को नींद ना आवे
ज़ब ना डोळे धीरे धीरे पंखा
ज़ब चली जाये विद्युत घर की
सब ले आवे अपना हथपंखा
अब ना करो शोर कोई
चला के सो जाओ सब पंखा

127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
कैसे पाएं पार
कैसे पाएं पार
surenderpal vaidya
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
शंकर हुआ हूँ (ग़ज़ल)
Rahul Smit
योग और नीरोग
योग और नीरोग
Dr Parveen Thakur
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
*स्वजन जो आज भी रूठे हैं, उनसे मेल हो जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
عظمت رسول کی
عظمت رسول کی
अरशद रसूल बदायूंनी
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
🙅इस साल🙅
🙅इस साल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
“यादों के झरोखे से”
“यादों के झरोखे से”
पंकज कुमार कर्ण
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
........,?
........,?
शेखर सिंह
ज़िंदगी तेरी हद
ज़िंदगी तेरी हद
Dr fauzia Naseem shad
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
Loading...