Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2023 · 1 min read

न हिन्दू बुरा है

न हिन्दू बुरा है
न मुसलमान बुरा है,
मजहब हो चाहे जो भी
हर बेईमान बुरा है।
जिसमें नहीं रहम,
न ही प्यार का अहद।
मरे ख्याल से
वह हर इंसान बुरा है।

-सतीश सृजन

2 Likes · 1 Comment · 329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
...
...
Ravi Yadav
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
भरोसे के काजल में नज़र नहीं लगा करते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अपनी समझ और सूझबूझ से,
अपनी समझ और सूझबूझ से,
आचार्य वृन्दान्त
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
नहीं विश्वास करते लोग सच्चाई भुलाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
रुत चुनावी आई🙏
रुत चुनावी आई🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
शिक्षा
शिक्षा
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
हमारी फीलिंग्स भी बिल्कुल
Sunil Maheshwari
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"कवि तो वही"
Dr. Kishan tandon kranti
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
*भाया राधा को सहज, सुंदर शोभित मोर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फार्मूला
फार्मूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
Loading...