Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*

* न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना 【मुक्तक 】*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
न मुझको चाह महलों की, मुझे बस एक घर देना
लगे जब भूख तो खाना, मुझे तय वक्त पर देना
गिरूँ भी तो सँभल कर फिर, शुरू कर पाऊँ मैं चलना
सुहानी जिंदगी का ऐसा, ऐ मालिक ! सफर देना
—————————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999761 5451

424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सूरज का टुकड़ा...
सूरज का टुकड़ा...
Santosh Soni
बच्चा बूढ़ा हो गया , यौवन पीछे छोड़ (कुंडलिया )
बच्चा बूढ़ा हो गया , यौवन पीछे छोड़ (कुंडलिया )
Ravi Prakash
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
तंग अंग  देख कर मन मलंग हो गया
तंग अंग देख कर मन मलंग हो गया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जितना आसान है*
*जितना आसान है*
नेताम आर सी
💐प्रेम कौतुक-264💐
💐प्रेम कौतुक-264💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
Ranjeet kumar patre
मतदान और मतदाता
मतदान और मतदाता
विजय कुमार अग्रवाल
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
मुद्दों की बात
मुद्दों की बात
Shekhar Chandra Mitra
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
मैं मांझी सा जिद्दी हूं
AMRESH KUMAR VERMA
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"गुणनफल का ज्ञान"
Dr. Kishan tandon kranti
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
Loading...