Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

न पाने का गम अक्सर होता है

न पाने का गम अक्सर होता है ,
दिल बेहद अकेले रोता है ,
हसकर सब छुप जाता है ,
दर्पण में आते ही सब दिख जाता है,

रात्रि को जब हम एकांत होते है ,
कुछ प्रश्न स्वयं से होते है ,
उनसे रोकर हम सो जाते है ,
सोकर भी हम सो न पाते है ,
फिर उसके सपनो में खोकर ,
स्वयं से चूक जाते है ,

दिल न चाहते भी अपनों से मुस्कराता है ,
जीवन उसके बिन अधूरा आधा है ,
जैसे चाँद सूर्य बिन अधूरा होता है ,
न पाने का गम अक्सर होता है,

कुछ बाते डरी सी लगती है ,
उनसे दिल की भूमि बंजर सी लगती है ,
ख्वाबो की दुनिया अधूरी सी लगती है ,
जैसे हरियाली वर्षा बिन अधूरी होती है ,
न जाने आँखे झूठी आश में क्यों रहती है ,
न पाने का गम अक्सर होता है ,
हसकर सब छुप जाता है ,
दर्पण में आते ही सब दिख जाता है ||

Language: Hindi
1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
चलो, इतना तो पता चला कि
चलो, इतना तो पता चला कि "देशी कुबेर काला धन बांटते हैं। वो भ
*Author प्रणय प्रभात*
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
Shweta Soni
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
gurudeenverma198
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/239. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Dr Parveen Thakur
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
कुछ बात कुछ ख्वाब रहने दे
डॉ. दीपक मेवाती
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...