Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

नौकर

दो कौड़ी का शख्स मोहर भर बात सुनाता है।
कभी कभी नौकर बनना खल जाता है।
वह गुर्राता थोड़ा जबर सा पद पाकर।
जब कि वह भी है मेरे जैसा चाकर।

जी हजूर कहने से दिल कतराता है।
कभी कभी नौकर बनना खल जाता है।

मुझको तो स्वाभिमान से है जीना भाता ।
लगन से करता जितना मुझको है आता ।
वही सफल आगे पीछे जो पूंछ हिलाता है।
चाटुकारिता कर ऊपर चढ़ जाता है।

मेरे जैसा इसी लिये कम पाता है।
कभी कभी नौकर बनना खल जाता है।

काम सभी का होता है वेतन दाता।
बात अलग कोई कम कोई ज्यादा पाता।
बेशक पद के रुतबे का सम्मान धरें।
बिलावजह कर्मी का न अपमान करें।

सोच समझ कर रहें सृजन बतलाता है।
कभी कभी नौकर बनना खल जाता है।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
जन्माष्टमी महोत्सव
जन्माष्टमी महोत्सव
Neeraj Agarwal
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
यादों के शहर में
यादों के शहर में
Madhu Shah
गरीबी  बनाती ,समझदार  भाई ,
गरीबी बनाती ,समझदार भाई ,
Neelofar Khan
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
"दान"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नव वर्ष की बधाई -2024
नव वर्ष की बधाई -2024
Raju Gajbhiye
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मैंने तो मधु-विश्वासों की, कथा निरंतर बॉंची है (गीत)*
*मैंने तो मधु-विश्वासों की, कथा निरंतर बॉंची है (गीत)*
Ravi Prakash
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*प्रणय प्रभात*
Sahityapedia
Sahityapedia
भरत कुमार सोलंकी
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
कोई पढ़ ले न चेहरे की शिकन
Shweta Soni
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU SHARMA
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
जरूरी नहीं की हर जख़्म खंजर ही दे
Gouri tiwari
Loading...