Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख

नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख़ुद की साम्राज्य बनाने की काबिलियत नहीं होती

गौरी तिवारी

3 Likes · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
gurudeenverma198
समाजसेवा
समाजसेवा
Kanchan Khanna
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
Subhash Singhai
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
माँ
माँ
Harminder Kaur
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
नारी के बिना जीवन, में प्यार नहीं होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
"ख़्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#एक_सबक़-
#एक_सबक़-
*प्रणय प्रभात*
परोपकार
परोपकार
Neeraj Agarwal
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
अभागा
अभागा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
__________सुविचार_____________
__________सुविचार_____________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
स्वाद छोड़िए, स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिए।
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
एक वृक्ष जिसे काट दो
एक वृक्ष जिसे काट दो
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3045.*पूर्णिका*
3045.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पूर्वार्थ
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
Loading...