Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2017 · 1 min read

नैना

विषय नैना.

नैनो से नैना कहे ,सुन नैनो की बात.
नैना तो नटखट सखी,समझे दिल की बात.

नैनो से नैना मिले ,नैना लिये झुकाय.
नैनो के रस्ते पिया,दिल में लिया बसाय.

जादू तेरे नैन का ,खीचे तेरी ओर.
तेरी गलियाँ आ गई,मैं साजन बिन डोर

नैनो से बच के रहो ,नैना है चितचोर.
नैनो का जादू चला ,मन चाले उत ओर.

नैना तेरे झील से,कहे घनेरी बात.
सोचत सोचत दिन गया ,नही कटे है रात

सजना तेरे नैन में ,मेरा रूप समाय.
बिन तेरे ओ साजना ,कुछ भी नही सुहाय

संगीता शर्मा.
10/3/2017

Language: Hindi
2918 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
जो कहा तूने नहीं
जो कहा तूने नहीं
Dr fauzia Naseem shad
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
जितनी तेजी से चढ़ते हैं
Dheerja Sharma
सुकून
सुकून
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
थोड़ा अदब भी जरूरी है
थोड़ा अदब भी जरूरी है
Shashank Mishra
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राखी
राखी
Shashi kala vyas
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
आज के युग का सबसे बड़ा दुर्भाग्य ये है
पूर्वार्थ
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
पढो वरना अनपढ कहलाओगे
Vindhya Prakash Mishra
ये
ये "इंडियन प्रीमियर लीग" है
*प्रणय प्रभात*
मौत
मौत
Harminder Kaur
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
Loading...