Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2022 · 1 min read

नैतिक मूल्य

नैतिक मूल्य
हमारे समाज व संस्कृति का
एक प्रतिमान हैं ।
ये हमें जीवन जीने के ढंग
तो सिखाते ही हैं ।
इस समाज में जीवनयापन
सहज बनाते हैं ।
सोंचों अगर ये प्रतिमान न हों
तो हमारा समाज कैसा होगा?
निरंकुश, स्वच्छन्द, अराजक
गहरे दूर तक सोंच कर देखो
क्या झ्न स्थितियों में
जीवन सहज हो पाता ?
निश्चय कभी-कभी
हमारे ये मूल्य, ये प्रतिमान
मानवीय नही यांत्रिक लगते हैं
बहुत कुछ छीन लेते हमसे
किन्तु जब हिसाब लगाओगे
तो छीनने से कई गुना अधिक
वो हमें दे जाते हैं।
वैश्वीकरण की इस दौड़ में
अनेक सभ्यताओं, संस्कृतियों
से परिचय
हमें स्वमूल्यों के उन्मुखीकरण
को प्रेरित करता हे।
बस हमें स्वविवेक से
श्रेष्ठ ग्राह्य मूल्य ही
स्व संस्कृति में
समावेशित कर लेने है।
किन्तु अपनी
संस्कृति व मूल्य का
आधार साथ रखना है ।
यही मूलमंत्र
वैश्विक परिदृश्य में
हमें हमारी संस्कृति को
श्रेष्ठ सोपान दिलाएगा।

1 Like · 143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
DrLakshman Jha Parimal
✨🌹|| संत रविदास (रैदास) ||🌹✨
✨🌹|| संत रविदास (रैदास) ||🌹✨
Pravesh Shinde
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
*भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)*
*भाता है सब को सदा ,पर्वत का हिमपात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💝एक अबोध बालक💝
💝एक अबोध बालक💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
केवल आनंद की अनुभूति ही जीवन का रहस्य नहीं है,बल्कि अनुभवों
Aarti Ayachit
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Heart Wishes For The Wave.
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-181💐
💐प्रेम कौतुक-181💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
ग्रीष्म की तपन
ग्रीष्म की तपन
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
"हल्के" लोगों से
*Author प्रणय प्रभात*
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काश तू मौन रहता
काश तू मौन रहता
Pratibha Kumari
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
Taj Mohammad
Loading...