Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

नेहा सिंह राठौर

इल्म और अदब से अगर
हुक़्मरान होने लगें खौफ़जदा!
तो समझ कि इस मुल्क में
क़लम हो चुकी फिर से ज़िंदा!
किसी शाही फ़रमान का
मातम मनाना छोड़कर अब!
तू अपनी फ़नकारी का
ऐ दीवानी लड़की, ज़श्न मना!
#सियासत #हल्ला_बोल #सच
@nehafolksinger #विद्रोही
#नेहा_सिंह_राठौर #political
#लोक_गायिका #हक

Language: Hindi
1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
Rituraj shivem verma
बचपन में थे सवा शेर
बचपन में थे सवा शेर
VINOD CHAUHAN
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
'सफलता' वह मुकाम है, जहाँ अपने गुनाहगारों को भी गले लगाने से
satish rathore
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
" पलास "
Pushpraj Anant
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
हां अब भी वह मेरा इंतजार करती होगी।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
छठ पूजा
छठ पूजा
©️ दामिनी नारायण सिंह
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
🙏 अज्ञानी की कलम🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बचकानी बातें करने वाले बुज़ुर्गों की इमेज उन छोरों ज
बचकानी बातें करने वाले बुज़ुर्गों की इमेज उन छोरों ज
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
भरम
भरम
Shyam Sundar Subramanian
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
sushil sarna
रक्तदान
रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
Loading...