Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

नेता जी

* कुण्डलिया *
~~
नेता जी को प्रिय सदा, अपना इच्छापत्र।
और प्रचारित हर जगह, यत्र तत्र सर्वत्र।
यत्र तत्र सर्वत्र, हर जगह प्रथम सभी से।
मैं मेरा परिवार, करेगा मौज अभी से।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, कष्ट ही सब को देता।
और स्वयं आनंद, प्राप्त करता है नेता।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
खूब किया है देश में, जिसने भ्रष्टाचार।
वहीं शराफत ओढ़ कर, बन बैठे लाचार।
बन बैठे लाचार, जेल के अन्दर खोये।
फसल रहे हैं काट, बीज खुद ही थे बोये।
कहते वैद्य सुरेन्द्र, पाप का साथ दिया है।
और देश का नित्य, अहित ही खूब किया है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०२/०५/२०२४

2 Likes · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
थोड़ा थोड़ा
थोड़ा थोड़ा
Satish Srijan
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंस
परिवार के एक सदस्य की मौत के दिन जश्न के उन्माद में डूबे इंस
*प्रणय प्रभात*
संघर्षशीलता की दरकार है।
संघर्षशीलता की दरकार है।
Manisha Manjari
"घोषणा"
Dr. Kishan tandon kranti
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
इक क़तरा की आस है
इक क़तरा की आस है
kumar Deepak "Mani"
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
Rj Anand Prajapati
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
Keshav kishor Kumar
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Sukoon
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
Loading...