Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Feb 25, 2019 · 1 min read

नेता और अभिनेता

‘फिल्में और राजनीति’ विषय पर प्रतियोगिता आयोजित की जा रही थी। एक उम्मीदवार से पूछा गया, “नेता और अभिनेता में क्या समानता है? ”
“उनका लक्ष्य एक है।”
“कैसे? ”
“नेता प्रत्यक्ष में और अभिनेता अप्रत्यक्ष में लोगों को मूर्ख बनाते है।” विश्वास भरा उत्तर मिला।

अशोक छाबडा
08 मार्च 1992

3 Likes · 1 Comment · 198 Views
You may also like:
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
कविराज
Buddha Prakash
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
बदल गए अन्दाज़।
Taj Mohammad
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरे बगैर।
Taj Mohammad
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
'ख़त'
Godambari Negi
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
बदनाम दिल बेचारा है
Taj Mohammad
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
✍️पिता:एक किरण✍️
"अशांत" शेखर
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
एक पैगाम मित्रों के नाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
मुक्तक
AJAY PRASAD
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...