Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2022 · 2 min read

*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_

*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
नेताजी का क्या हुआ ,अब तक जग अनजान
किसने माना मर गए , भारत – वीर महान
भारत – वीर महान , लापता – चिर कहलाते
तीन बने आयोग , किंतु संशय गहराते
कहते रवि कविराय , जीतकर सारी बाजी
छिपे धुँधलके – बीच , हिंद के प्रिय नेता जी
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
_रचयिता : रवि प्रकाश_ ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*नेताजी सुभाष चंद्र बोस* 【 23 जनवरी 1897 – #18_अगस्त 1945 】भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के शीर्षस्थ योद्धा थे । आपने *आजाद हिंद फौज* का गठन करके अंग्रेजों के विरुद्ध संगठित रूप से सशस्त्र विद्रोह का नेतृत्व किया था । *जय हिंद* , *दिल्ली चलो* तथा *तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा*- यह ऐसे लोकप्रिय नारे थे जो हर भारतीय की जुबान पर चढ़ गए थे । *21 अगस्त 1943* को आपने आजाद हिंद फौज के सेनापति के रूप में *पहली स्वतंत्र भारत सरकार* के गठन की घोषणा की ,जिसे जापान और जर्मनी सहित विश्व के 11 देशों ने मान्यता दी ।
*#18_अगस्त_1945* को रहस्यमय परिस्थितियों में एक विमान दुर्घटना में ताइवान में आपकी मृत्यु की घोषणा बताई जाती है । किंतु देश भर में आपके असंख्य प्रशंसकों ने कभी भी आपकी मृत्यु के समाचार पर विश्वास नहीं किया । स्वतंत्रता के पश्चात भारत सरकार ने आप की मृत्यु के रहस्य पर खोज करने के लिए एक के बाद एक कुल तीन जाँच आयोग बिठाए। 1999 में मुखर्जी आयोग का गठन तीसरी बार हुआ। इसने जाँच करके वर्ष 2005 में अपना यह निष्कर्ष दिया कि 1945 में किसी भी विमान दुर्घटना में नेताजी की मृत्यु का कोई सबूत नहीं है ।
1945 के बाद नेताजी का क्या हुआ ?- इसके बारे में एक सबसे बड़ा संदेह यह है कि वह रूस में गिरफ्तार हो कर रहे। नेताजी के लापता होने के बाद शौर्य के बल पर आजादी प्राप्त करने वाली सरकार के गठन की घोषणा पृष्ठभूमि में विलीन हो गई । देश में अनगिनत लोग आज भी 18 अगस्त 1945 को नेताजी की पुण्यतिथि के रूप में स्वीकार नहीं करते । वह इसे नेताजी के लापता होने की तिथि के रूप में ही देखते हैं। *( लेखक :रवि प्रकाश )*

31 Views
You may also like:
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
💔💔...broken
Palak Shreya
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
Loading...