Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2022 · 2 min read

*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_

नेताजी : एक रहस्य (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
नेताजी का क्या हुआ ,अब तक जग अनजान
किसने माना मर गए , भारत – वीर महान
भारत – वीर महान , लापता – चिर कहलाते
तीन बने आयोग , किंतु संशय गहराते
कहते रवि कविराय , जीतकर सारी बाजी
छिपे धुँधलके – बीच , हिंद के प्रिय नेता जी
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
नेताजी सुभाष चंद्र बोस 【 23 जनवरी 1897 – #18_अगस्त 1945 】भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के शीर्षस्थ योद्धा थे । आपने आजाद हिंद फौज का गठन करके अंग्रेजों के विरुद्ध संगठित रूप से सशस्त्र विद्रोह का नेतृत्व किया था । जय हिंद , दिल्ली चलो तथा तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा– यह ऐसे लोकप्रिय नारे थे जो हर भारतीय की जुबान पर चढ़ गए थे । 21 अगस्त 1943 को आपने आजाद हिंद फौज के सेनापति के रूप में पहली स्वतंत्र भारत सरकार के गठन की घोषणा की ,जिसे जापान और जर्मनी सहित विश्व के 11 देशों ने मान्यता दी ।
#18_अगस्त_1945 को रहस्यमय परिस्थितियों में एक विमान दुर्घटना में ताइवान में आपकी मृत्यु की घोषणा बताई जाती है । किंतु देश भर में आपके असंख्य प्रशंसकों ने कभी भी आपकी मृत्यु के समाचार पर विश्वास नहीं किया । स्वतंत्रता के पश्चात भारत सरकार ने आप की मृत्यु के रहस्य पर खोज करने के लिए एक के बाद एक कुल तीन जाँच आयोग बिठाए। 1999 में मुखर्जी आयोग का गठन तीसरी बार हुआ। इसने जाँच करके वर्ष 2005 में अपना यह निष्कर्ष दिया कि 1945 में किसी भी विमान दुर्घटना में नेताजी की मृत्यु का कोई सबूत नहीं है ।
1945 के बाद नेताजी का क्या हुआ ?- इसके बारे में एक सबसे बड़ा संदेह यह है कि वह रूस में गिरफ्तार हो कर रहे। नेताजी के लापता होने के बाद शौर्य के बल पर आजादी प्राप्त करने वाली सरकार के गठन की घोषणा पृष्ठभूमि में विलीन हो गई । देश में अनगिनत लोग आज भी 18 अगस्त 1945 को नेताजी की पुण्यतिथि के रूप में स्वीकार नहीं करते । वह इसे नेताजी के लापता होने की तिथि के रूप में ही देखते हैं। ( लेखक :रवि प्रकाश )

134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
दिल लगाएं भगवान में
दिल लगाएं भगवान में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
कुछ लिखा हैं तुम्हारे लिए, तुम सुन पाओगी क्या
Writer_ermkumar
जो चाहने वाले होते हैं ना
जो चाहने वाले होते हैं ना
पूर्वार्थ
"बहुत से लोग
*Author प्रणय प्रभात*
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
कल बहुत कुछ सीखा गए
कल बहुत कुछ सीखा गए
Dushyant Kumar Patel
अनुभव
अनुभव
Sanjay ' शून्य'
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-344💐
💐प्रेम कौतुक-344💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
*कण-कण में तुम बसे हुए हो, दशरथनंदन राम (गीत)*
Ravi Prakash
तेरे होकर भी।
तेरे होकर भी।
Taj Mohammad
मिसाइल मैन को नमन
मिसाइल मैन को नमन
Dr. Rajeev Jain
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जरा विचार कीजिए
जरा विचार कीजिए
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...