Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्

नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्रोत शारीरिक क्रियाविधि की अमुक सांकेतिक भाषा है जिसमें नजर, कमर और उमर का बेहद दिलचस्प रोल होता है।
RJ Anand Prajapati

78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
मुश्किल हालात हैं
मुश्किल हालात हैं
शेखर सिंह
" ज़ेल नईखे सरल "
Chunnu Lal Gupta
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
त्रिया चरित्र
त्रिया चरित्र
Rakesh Bahanwal
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
आज हम याद करते
आज हम याद करते
अनिल अहिरवार
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
News
News
बुलंद न्यूज़ news
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुम
दुम
Rajesh
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*Author प्रणय प्रभात*
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में सुरेंद्र मोहन मिश्र पुरातात्विक संग्रह : एक अवलोकन*
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में सुरेंद्र मोहन मिश्र पुरातात्विक संग्रह : एक अवलोकन*
Ravi Prakash
प्रेम पीड़ा
प्रेम पीड़ा
Shivkumar barman
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
नशीली आंखें
नशीली आंखें
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
तुम्हें बुरी लगती हैं मेरी बातें, मेरा हर सवाल,
पूर्वार्थ
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...