Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 1 min read

नीरसमें भी रसमिलता है :– जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट१३६)

भले लगे प्रतिकूल सत्य यह , नीरस में भी रस मिलता है
माना साथ धूप तरुवर का ,होता कभी नहीं चिर’ थायी ।
माना फूल और कॉटोंकी , सीमत है संयोग मितायी ।
भले लगे प्रतिकुल , सत्य यह , शूलों से भी यश मिलता है ।।
जिसको दुख है मीत न मिलते , उसके उर में चाह नहीं है ।
सुमन न खिलते अगर प्रीत के , तो जीवनकी राह नहीं है।
भले लगे प्रतिकूल सत्य यह , पंक– राशि नीरज खिलता है ।
नहीं जीविका का हो साधन , और न बल हो उसके तन में ।
कैसे करे कठोर श्रमिक श्रम , कॉप – कॉप रहता निज मन में ।
भले लगे प्रतिकूल, सत्य यह , बंजर में भी हल चलता है ।।—– जितेंद्र कमल आनंद| रामपुर —२४४९०१
—– ७-११-१६

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Comment · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Har subha uthti hai ummid ki kiran
Har subha uthti hai ummid ki kiran
कवि दीपक बवेजा
एक तरफ
एक तरफ
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*अब गुलालों तक के भीतर, रंग पक्के हो गए (मुक्तक)*
*अब गुलालों तक के भीतर, रंग पक्के हो गए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
Er.Navaneet R Shandily
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
"बहनों के संग बीता बचपन"
Ekta chitrangini
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
उज्जयिनी (उज्जैन) नरेश चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य
Pravesh Shinde
मेले
मेले
Punam Pande
#राम-राम जी..👏👏
#राम-राम जी..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
“कब मानव कवि बन जाता हैं ”
Rituraj shivem verma
💐प्रेम कौतुक-436💐
💐प्रेम कौतुक-436💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
#जयंती_पर्व
#जयंती_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
Vishal babu (vishu)
मेरी माँ तू प्यारी माँ
मेरी माँ तू प्यारी माँ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...