Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 2 min read

नीड़ का मोह

एक पंछी को अपने कुछ कार्यों की निष्पत्ति के लिए किसी आश्रय की आवश्यकता थी। अचानक एक घने वृक्ष पर उसे एक नीड़ दिखाई दिया। उसने उसे अपना आश्रय बना लिया। उसने पाया की नीड़ काफी आरामदायक था। उसने उसे और सुसज्जित करने का इरादा कर लिया। वह प्रतिदिन दूर तक जाता और नीड़ में अपनी सुख सुविधा के सामान इकट्ठा करता।
दूर के वनों में जाकर चंदन की लकडि़यों के तिनकों से अपने नीड़ को सजाता, जिससे उसके नीड़ में सुगंध छाई रहे।
तरह-तरह के फूलों से उसने अपने नीड़ को सजाना शुरू कर दिया।
ऐसा करने में उसका सारा दिन अपने लिए भोजन एकत्रित करने तथा अपने नीड़ को सजाने में ही निकल जाता था।
काफी दिन व्यतीत हो गए। उसकी दिनचर्या वही बनी रही।
एक दिन अचानक एक जोरों का तूफान आया। उस तूफान ने पंछी के घोसले(नीड़) को जमी पर पटक दिया। नीड़ पूरी तरह से नष्ट हो गया था। पंछी नीड़ से बाहर आ गया और प्रलाप करने लगा। उसे रह-रह कर अपने नीड़ की याद आ रही थी।
अचानक उसे याद आया। ओह जिस कार्य के लिए उसने नीड़ का आश्रय लिया था, वह कार्य तो वह कर ही नहीं पाया। उसने अपना सारा समय तो इस नीड़ को सजाने-सँवारने में ही व्यर्थ कर दिया।
जितनी तन्मयता से उसने इस नीड़ को सजाया इतनी तन्मयता से अगर वह अपना कार्य करता तो संभवतः वह उसमें सफल हो सकता था।
परंतु अब कुछ नहीं हो सकता था। कार्य की निष्पत्ति का समय निकल चुका था। व अपना सारा समय नीड़ को सजाने में ही व्यर्थ कर चुका था।
निराश भाव से मन पर एक बोझ लेकर पंछी उड़ गया।
उसका तन्मयता से सजाया गया नीड़ नष्ट अवस्था में वहीं पडा़ रह गया।

अगर समझ में आ जाए तो समय से पहले सावधान हो जाना मित्रों! कहीं सारा समय नीड़ सजाने में ही न चला जाए।
सोनू हंस

ये हमारा शरीर एक घोंसला ही तो है, जिसमें पंछी रूपी हमारी आत्मा या रूह अपने मूल कर्तव्यों को भूलकर इस शरीर को सजाने सँवारने में लग जाती है और कर्तव्यविमुख हो जाती है।
बाद में जब अंत समय आता है और मौत रूपी तूफान के झटके में यह शरीर रूपी नीड़ नष्ट हो जाता है तब जीवात्मा को अहसास होता है कि उसने अपना जन्म व्यर्थ गवाँ दिया। ये शरीर ही तो माध्यम था जिसके जरिए मैं अपने कर्तव्यों की पूर्ति करता। अपने परमात्मा को पा सकता था। मोक्ष को पा सकता था। लेकिन मैंने सारी उम्र इस शरीर को सजाने सँवारने और इच्छा पूर्ति में व्यतीत कर दी।
लेकिन शरीर रूपी घोंसला अब नष्ट हो गया। अब पछताने से क्या होगा। अत: आत्मा रूपी पंछी निराश होकर फिर जन्म मरण के बंधन की यात्रा में फंस जाता है।

Language: Hindi
800 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
At the age of 18, 19, 20, 21+ you will start to realize that
पूर्वार्थ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
शृंगार छंद
शृंगार छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पगली
पगली
Kanchan Khanna
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
मैया तेरा लाडला ये हमको सताता है
कृष्णकांत गुर्जर
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#शुभरात्रि
#शुभरात्रि
आर.एस. 'प्रीतम'
फर्क तो पड़ता है
फर्क तो पड़ता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे तारे पसंद हैं
मुझे तारे पसंद हैं
ruby kumari
💐अज्ञात के प्रति-57💐
💐अज्ञात के प्रति-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
मिसाल उन्हीं की बनती है,
मिसाल उन्हीं की बनती है,
Dr. Man Mohan Krishna
■ बात अगर ग़ैरत की हो तो क्यों न की जाए हिज़रत?
■ बात अगर ग़ैरत की हो तो क्यों न की जाए हिज़रत?
*Author प्रणय प्रभात*
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
*जो कुछ तुमने दिया प्रभो, सौ-सौ आभार तुम्हारा(भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
VINOD CHAUHAN
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...