Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

नींव की ईंट

नींव की ईंट
नींव की ईंट मजबूत हो, तो इमारत मजबूत होती है
संस्कार यदि सुंदर हो , तो इंसान भी सुंदर होता है

67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
नया साल
नया साल
umesh mehra
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
VINOD CHAUHAN
ला-फ़ानी
ला-फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
तुम गए जैसे, वैसे कोई जाता नहीं
Manisha Manjari
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धरती का बुखार
धरती का बुखार
Anil Kumar Mishra
इक रोज़ मैं सोया था,
इक रोज़ मैं सोया था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
पानी
पानी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अन्याय होता है तो
अन्याय होता है तो
Sonam Puneet Dubey
"दरवाजा"
Dr. Kishan tandon kranti
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सत्य की जय
सत्य की जय
surenderpal vaidya
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
// जय श्रीराम //
// जय श्रीराम //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो शब्द
दो शब्द
Dr fauzia Naseem shad
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
Loading...