Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

नींबू की चाह

चाह नहीं मेरी, मिरचो के साथ गूंथा जाऊं।
चाह नहीं मेरी,दरवाजे पर लटकाया जाऊं।।

चाह नहीं मेरी,नमक चीनी के साथ में घुल जाऊं।
चाह नहीं मेरी,मटर की चाट का स्वाद बन जाऊं।।

चाह नहीं मेरी,भूत प्रेत से मै पीछा छुड़वाऊं।
चाह नहीं मेरी,सबको बुरी नजरों से बचाऊं।।

चाह नहीं मेरी,सब्जी वालो को मैं अमीर बनाऊं।
चाह नहीं मेरी,नींबू के वृक्षों पर ही मैं लद जाऊं।।

चाह मेरी बस एक,उस रास्ते देना मुझको फेक।
जिस रास्ते जाते है,मेरे देश के सपूत वीर अनेक।।

बना सके मेरी शिकंजी,गर्मी व लू से वे बच पाए।
सीमा पर जाकर,शत्रु के दांत खट्टे करने वे जाए।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
7 Likes · 14 Comments · 673 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
इसलिए कठिनाईयों का खल मुझे न छल रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बच्चे बोले दो दिवस, खेलेंगे हम रंग
बच्चे बोले दो दिवस, खेलेंगे हम रंग
Ravi Prakash
इक तेरे सिवा
इक तेरे सिवा
Dr.Pratibha Prakash
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
2863.*पूर्णिका*
2863.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता
पिता
Kanchan Khanna
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
पेड़ से कौन बाते करता है ।
पेड़ से कौन बाते करता है ।
Buddha Prakash
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...