Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 24, 2016 · 1 min read

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}
========================
“मै करती
मौन व्रत,
तू –
मिथ्या फलाहार!
मै
निराकार की उपासक,
तू अर्चक –
ब्रह्म साकार!
मै
मनन की सृजक,
तू –
मंथन का मूक दर्शक!
मैं रचती
नैसर्गिक भाषा,
तू –
आतंक की नव परिभाषा!
मुझसे हर्षित हों
भगवान्,
तुझपर हँसे –
हे कुटिल इंसान!!”______दुर्गेश वर्मा

251 Views
You may also like:
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पिता
Meenakshi Nagar
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
पापा
सेजल गोस्वामी
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
Security Guard
Buddha Prakash
पिता
Dr.Priya Soni Khare
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
Loading...