Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}
========================
“मै करती
मौन व्रत,
तू –
मिथ्या फलाहार!
मै
निराकार की उपासक,
तू अर्चक –
ब्रह्म साकार!
मै
मनन की सृजक,
तू –
मंथन का मूक दर्शक!
मैं रचती
नैसर्गिक भाषा,
तू –
आतंक की नव परिभाषा!
मुझसे हर्षित हों
भगवान्,
तुझपर हँसे –
हे कुटिल इंसान!!”______दुर्गेश वर्मा

Language: Hindi
459 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
कविता
कविता
Vandana Namdev
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Hum bhi rang birange phoolo ki tarah hote
Sakshi Tripathi
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कांतिपति का चुनाव-रथ
कांतिपति का चुनाव-रथ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
💐Prodigy Love-35💐
💐Prodigy Love-35💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर गम छुपा लेते है।
हर गम छुपा लेते है।
Taj Mohammad
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
मैं बनना चाहता हूँ तुम्हारा प्रेमी,
Dr. Man Mohan Krishna
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
सुप्रभात
सुप्रभात
Arun B Jain
समय
समय
Paras Nath Jha
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
प्रेम
प्रेम
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...