Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}
========================
“मै करती
मौन व्रत,
तू –
मिथ्या फलाहार!
मै
निराकार की उपासक,
तू अर्चक –
ब्रह्म साकार!
मै
मनन की सृजक,
तू –
मंथन का मूक दर्शक!
मैं रचती
नैसर्गिक भाषा,
तू –
आतंक की नव परिभाषा!
मुझसे हर्षित हों
भगवान्,
तुझपर हँसे –
हे कुटिल इंसान!!”______दुर्गेश वर्मा

Language: Hindi
Tag: कविता
303 Views
You may also like:
*आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
रहे मुहब्बत सदा ही रौशन..
अश्क चिरैयाकोटी
मैं आजाद भारत बोल रहा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
फौजी
Dr Meenu Poonia
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
मेरे जज्बात
Anamika Singh
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटता तारा
Ashish Kumar
■ कैसी कही...?
*Author प्रणय प्रभात*
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आदमी को आदमी से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
फकीरे
Shiva Awasthi
हिंदी दोहे- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
” SALUTE TO EVERYONE ON ARMY DAY “
DrLakshman Jha Parimal
✍️घुसमट✍️
'अशांत' शेखर
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
अपनी हस्ती को मिटाना
Dr. Sunita Singh
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
नायक
Shekhar Chandra Mitra
अधूरी रात
डी. के. निवातिया
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
मुझे लौटा दो वो गुजरा जमाना ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
'कैसी घबराहट'
Godambari Negi
आसमान से ऊपर और जमीं के नीचे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
ਪਛਤਾਵਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਬਾਕੀ
Kaur Surinder
मन संसार
Buddha Prakash
उम्मीद का दामन थामें बैठे हैं।
Taj Mohammad
Loading...