Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।

निरुद्देश्य जीवन भी कोई जीवन होता है ।
ऐसा तो केवल पशु जीवन सा ही होता है ।
संसार में आए हैं तो एक लक्ष्य होना चाहिए,
किसी लक्ष्य के साथ ही मानव जीवन सार्थक होता है ।

1 Like · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
पंकज कुमार कर्ण
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
*॥ ॐ नमः शिवाय ॥*
Radhakishan R. Mundhra
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
"सँवरने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅DNA REPORT🙅
🙅DNA REPORT🙅
*प्रणय प्रभात*
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
If our kids do not speak their mother tongue, we force them
DrLakshman Jha Parimal
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
🙏
🙏
Neelam Sharma
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
Loading...