Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

“निक्कू खरगोश”

“निक्कू खरगोश”
अपने दोस्त के घर से एक दिन
राज निक्कू को घर लेकर आए
प्यारा सा खरगोश घर देखकर
ख़ुशी से बच्चे फूले नहीं समाए,
गोद में लिया तो राजी हुई रानू
रोमी भी देख शैतानी खूब हर्षाए
कुर कुर कुर कुर करता घूम रहा
घास की डंडी तेजी से चबा जाए,
जैसे ही निकाला पिंजरे से बाहर
झटपट से वापिस वहीं घुस जाए
चपाती भी कुतरता पैने दांतो से
लाल टमाटर खाकर खुश हो जाए,
सफेद रंग और मुलायम सा शरीर
दूसरी जगह आकर वो कांप जाए,
गोदी में बैठकर आराम फरमाता
प्यारा सा निक्कू बहुत याद आए।

Language: Hindi
1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
Ravi Prakash
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
gurudeenverma198
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारे देश में
हमारे देश में
*Author प्रणय प्रभात*
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
एमर्जेंसी ड्यूटी
एमर्जेंसी ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
जय माँ दुर्गा देवी,मैया जय अंबे देवी...
Harminder Kaur
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
💐प्रेम कौतुक-484💐
💐प्रेम कौतुक-484💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
कब तक
कब तक
आर एस आघात
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
वो चिट्ठियां
वो चिट्ठियां
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
किसी के दर्द
किसी के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
Loading...