Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

ना हो अपनी धरती बेवा।

ना हो अपनी धरती बेवा।
चलो करें वृक्षों की सेवा।।
—-अशोक शर्मा

126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
#हँसी
#हँसी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन और रंग
जीवन और रंग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बालबीर भारत का
बालबीर भारत का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
तृष्णा के अम्बर यहाँ,
sushil sarna
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
हर ज़ख्म हमने पाया गुलाब के जैसा,
लवकुश यादव "अज़ल"
यह जो आँखों में दिख रहा है
यह जो आँखों में दिख रहा है
कवि दीपक बवेजा
यौम ए पैदाइश पर लिखे अशआर
यौम ए पैदाइश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"चिन्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
💐Prodigy Love-35💐
💐Prodigy Love-35💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
*संसार में कितनी भॅंवर, कितनी मिलीं मॅंझधार हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...