Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

ना जाने क्यों ?

,
ना जाने क्यों ?
——————————————————
चंदा सूरज पूछ रहे थे ,ना जाने क्यों ?
प्यार तुम्हारा- सच्चा लगता है!
चलती राह निहार रहे थे सारे राही –
प्यार हमारा सच्चा लगता है !!

कोयल आयी बाग छोड़कर ,
और आमों की अमराई –
मुक्त कंठ उस ने भी गाया –
प्यार तुम्हारा सच्चा लगता है !

तन्हाई बेहाल हो गयी,
जब से तेरा साथ मिला !
संग बेचारा शर्मिन्दा है ,
उसका मन कुछ कहता है !!

दिन में दिन तो कट जाता है ,
रात बेचारी रोती है !
सपनों से उम्मीद शेष है ,
सपना अपना लगता है !!

सपना यदि अपना हो जाये,
इस से अच्छा क्या होगा !
अपना भी अपना हो जाये ,
तब जग अपना लगता है !!

मेरा प्यार लगे अपना सा ,
और लगे वह सच्चा भी –
तब तो सब कुछ सफल बनेगा ,
तुम को कैसा लगता है ?

112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ramswaroop Dinkar
View all
You may also like:
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
डॉ.सीमा अग्रवाल
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
देश के वासी हैं
देश के वासी हैं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
चार कदम चोर से 14 कदम लतखोर से
शेखर सिंह
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
singh kunwar sarvendra vikram
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
यूं कौन जानता है यहां हमें,
यूं कौन जानता है यहां हमें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
कमली हुई तेरे प्यार की
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
Loading...