Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

नाही काहो का शोक

वर्तमान समय में लोगों को,
एक नजर है आता
जिनके पास है, धन दौलत ,,
वो ही इज्जत है पाता

पैसा पितु पैसा हितु, पैसा है
,साक्षात लक्ष्मी माता
सज्जन नर भी,बिन पैसा,
गदहा नजर है आता

गद्दार बेईमान भ्रष्टाचारी
, है सम्मान जग में पाता
पुष्पहार से स्वागत होता,
खुब बजते हैं बेंड बाजा

आते हैं भीड़ बड़ा मजहब,
नाच गान भी करते हैं
अरबों खरबों के भ्रष्टाचारियों को,
कहने से क्यों डरते।

संस्कार संस्कृति सभ्यता का
जिसने किया विनाश
विनाशकारी विध्वंसक का,
यदि,,करते सत्यानाश

आपा अपना खो गया,जब
पैसा दिखा उनके पास
सत्य राही को मारकर, लोग
बन जाते हैं उनके दास

कवि विजय तो गरीब है,
न काहु किसी का परवाह
लोगन तो कुछ भी कहे
,पर चल पड़ा है निज राह

सत्य बात के बात पर,
दुश्मन बन जाते हैं लोग
जीवन तो अब श्मशान पर ,
नाही काहु बात का शोक

डां विजय कुमार कन्नौजे
अमोदी आरंग
ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
2 Likes · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
रास्ते अनेको अनेक चुन लो
उमेश बैरवा
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
Maybe the reason I'm no longer interested in being in love i
पूर्वार्थ
बहुत दाम हो गए
बहुत दाम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
प्रभु श्री राम आयेंगे
प्रभु श्री राम आयेंगे
Santosh kumar Miri
न किसी से कुछ कहूँ
न किसी से कुछ कहूँ
ruby kumari
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
छात्रों का विरोध स्वर
छात्रों का विरोध स्वर
Rj Anand Prajapati
मेरी आंखों का
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
खिला हूं आजतक मौसम के थपेड़े सहकर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
फूल अब शबनम चाहते है।
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कुली
कुली
Mukta Rashmi
"मनुष्य की प्रवृत्ति समय के साथ बदलना शुभ संकेत है कि हम इक्
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
काश अभी बच्चा होता
काश अभी बच्चा होता
साहिल
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
कैसे हो हम शामिल, तुम्हारी महफ़िल में
gurudeenverma198
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
sudhir kumar
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
"फासला और फैसला"
Dr. Kishan tandon kranti
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
Loading...