Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

नासाज़ ऐ-दिल

बड़ा नासाज़-नासाज़ सा
क्यों है ऐ-दिल,
जो कहना है खुल के
कह दे आज ऐ-दिल।

हो जाती है गुफ्तगू
अनायास ही ना चाहते हुए भी,
कर इक बार कोशिश फिर से
नाराज़ ऐ-दिल।

आसान नहीं है फिर से
टूटी कश्ती को जोड़ना,
जो बन जाये बात तो
अदभुत काज है ऐ-दिल।

राह बन जाएगी बस
एक कदम बढ़ाने की देर है,
मिल जाएगी वो मंजिल भी
कर तो आगाज़ ऐ-दिल।

कुछ नही बस
धुआं धुंआ सा है,
नज़र आ जायेगा
फिर वही मंजर,
बस कर तो इक बार
नज़र अंदाज ऐ-दिल।

कुमार दीपक “मणि”
08/02/2023

Language: Hindi
1 Like · 185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यें लो पुस्तकें
यें लो पुस्तकें
Piyush Goel
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
जब कोई कहे आप लायक नहीं हो किसी के लिए
जब कोई कहे आप लायक नहीं हो किसी के लिए
Sonam Puneet Dubey
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
झुलस
झुलस
Dr.Pratibha Prakash
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
#प्रेम_वियोग_एकस्वप्न
#प्रेम_वियोग_एकस्वप्न
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
3306.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3306.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
पहले मैं इतना कमजोर था, कि ठीक से खड़ा भी नहीं हो पाता था।
SPK Sachin Lodhi
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
सबक
सबक
Saraswati Bajpai
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"कमाल"
Dr. Kishan tandon kranti
देश हमारा
देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
I hope you find someone who never makes you question your ow
I hope you find someone who never makes you question your ow
पूर्वार्थ
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
*लज्जा*
*लज्जा*
sudhir kumar
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कैसी ये पीर है
कैसी ये पीर है
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
Loading...