Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

नाशवंत आणि अविनाशी

जीवन भ्रम आहे आणि मृत्यू सत्य आहे.
विश्वातील कोणतीही वस्तू बदलत राहते आणि शेवटी बदलते.
म्हणजेच माणूस कधीही त्याच अवस्थेत राहू शकत नाही, म्हणजेच अविनाशी राहू शकत नाही.
मृत्यूनंतर शरीराचे भौतिक स्वरूप एका सूक्ष्म अदृश्य रूपात म्हणजेच आत्म्यामध्ये बदलते.
जे उघड्या डोळ्यांनी कधीच बघता येत नाही, पण त्याचे अस्तित्व जाणवू शकते.
काही प्रकरणांमध्ये ते छद्म-शारीरिक अलौकिक स्वरुपात रूपांतरित झाल्यास दृश्यमान होऊ शकते, जे सहसा भुताटकीचे स्वरूप म्हणून वर्गीकृत केले जाते.
ज्यामध्ये मेंदूवर मतिभ्रम सारखे दृश्य परिणाम मर्यादित प्रमाणात निवडक व्यक्तींद्वारे पाहिले जातात, परंतु हे प्रेरित प्रभाव आहेत, दृश्य मतिभ्रम नाहीत. जे मानवी मनावर अलौकिक शक्तींद्वारे व्यक्तिनिष्ठ आधारावर तयार केले जातात जेणेकरुन सद्य परिस्थितीत त्यांच्या उपस्थितीचा ठसा उमटवा.
मृत्यूनंतर तथाकथित उर्जा आत्मा वातावरणात विशिष्ट कालावधीसाठी राहतो जोपर्यंत त्याला झिगोटचे भौतिक रूपात रूपांतर होण्यासाठी जागा मिळत नाही, जी शुक्राणू आणि ओस्पोरच्या संमिश्रणामुळे तयार होते. नवजात मुलाचा विकास होतो.
मध्यवर्ती टप्पा ज्यामध्ये ऊर्जा असते ते अलौकिक स्वरूप आहे.
म्हणून आपल्याला नाशवंत आणि अविनाशीचा खरा अर्थ समजून घ्यावा लागेल, तो नाशवंत म्हणजे त्या अवस्थेचा शेवट आणि अविनाशी म्हणजे दुसर्‍या अवस्थेत बदल.

Language: Marathi
Tag: लेख
5 Likes · 6 Comments · 607 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
Sonam Puneet Dubey
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
कलियों सा तुम्हारा यौवन खिला है।
Rj Anand Prajapati
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
बनना है बेहतर तो सब कुछ झेलना पड़ेगा
पूर्वार्थ
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
भूख 🙏
भूख 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
कोई वजह अब बना लो सनम तुम... फिर से मेरे करीब आ जाने को..!!
Ravi Betulwala
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हरियाणा में हो गया
हरियाणा में हो गया
*प्रणय प्रभात*
"दुविधा"
Dr. Kishan tandon kranti
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
तड़प कर मर रही हूं तुझे ही पाने के लिए
Ram Krishan Rastogi
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
DrLakshman Jha Parimal
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
2967.*पूर्णिका*
2967.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
नम आंखों से ओझल होते देखी किरण सुबह की
Abhinesh Sharma
हम तो मतदान करेंगे...!
हम तो मतदान करेंगे...!
मनोज कर्ण
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पिछले पन्ने 5
पिछले पन्ने 5
Paras Nath Jha
Loading...