Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

नारी

कभी दुर्गा कभी काली
सरस्वती है लक्ष्मी भी वो
नारी है जगत जननी
है रानी लक्ष्मीबाई भी वो

ममता का सागर है
प्रेम का गागर है
दया की मूरत है
सहनशीलता की सूरत है

नारी है सम्मान
नारी है महान
जननी है ये
स्त्रीत्व है उससे
वही है पालनहार
नारी तू निश्छल पावन
पतित पावनी तू ही गंगा

नारी तेरे रूप अनेक
तू ही मदर टेरेसा
तू ही अहिल्याबाई

कभी बेटी कभी माँ
नाम कई रूप अनेक
करती सब कुछ अर्पण
प्रेम भाव सब करती समर्पण।

ममता रानी
झारखंड

2 Likes · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
3055.*पूर्णिका*
3055.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
gurudeenverma198
माँ
माँ
Dinesh Kumar Gangwar
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
"आदमी की तलाश"
Dr. Kishan tandon kranti
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
भारत की होगी दुनिया में, फिर से जय जय कार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
मूल्यों में आ रही गिरावट समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
चार मुक्तक
चार मुक्तक
Suryakant Dwivedi
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आज पशु- पक्षी कीमती
आज पशु- पक्षी कीमती
Meera Thakur
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
Loading...