Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

चांद सी चंचल चेहरा 🙏

नारी न निराश करो मन को
अद्भूत नगीना देती जग को
सौन्दर्य सुंदरता कुदरत की

रंगभरी रंगगोली प्रकृति की
सुन्दर काया समुंदर माया
चंचल चंचला चाँद सी चेहरा

ममता दया करूणा की सागर
बोली वाणी सहज स्वभाव मधुर
अमृत कलश भरी रुहानी जीवन

पवित्र निर्मल मधु दूजे साथी
निश्चल निर्मल ना आना कानी
जगत सहारा बन जीवन रेखा

स्वर्ग सुख स्वप्न परी सी काया
जग भाते सुंदर मूरत तेरी माया
स्वर्ग उतरी नारी सुंदरता की देवी

मधुर मधु एक दूजे के साथी
क्लेस कपट हीन भावों से भरी
जग जन जीते नारी तेरे सहारे

नारी पवित्र आप पालनहारी
वंश ऋष्टि परंपरा रक्षाकारी
सत् नमन करता है प्राणी ।

Language: Hindi
107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
चाँदी की चादर तनी, हुआ शीत का अंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
-- अंतिम यात्रा --
-- अंतिम यात्रा --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
सच के सिपाही
सच के सिपाही
Shekhar Chandra Mitra
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
जगदम्ब शिवा
जगदम्ब शिवा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
💐अज्ञात के प्रति-104💐
💐अज्ञात के प्रति-104💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
*Author प्रणय प्रभात*
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
Pramila sultan
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
नारी
नारी
नन्दलाल सुथार "राही"
देना है तो दीजिए, प्रभु जी कुछ अपमान (कुंडलिया)
देना है तो दीजिए, प्रभु जी कुछ अपमान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
रंगीला संवरिया
रंगीला संवरिया
Arvina
Loading...