Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

नारी शक्ति

जलता दीपक देता प्रकाश,
और ख़ुशी सभी को होती है।
पर दीपक की लौ के नीचे,
बाती जलती होती है ।।

शिशु जन्म और पालन पोषण,
माँ की ज़िम्मेदारी है।
शिशु ज़ीवन गढ़ने में माँ की,
अहम् भूमिका होती है।।

माँ होती है अन्नपूर्णा,
सरस्वती और दुर्गा भी।
रौद्ररूप जब धारण करती ,
महाकाली बन जाती है।।

वीर शिवा की विजय के पीछे,
माँ ज़ीज़ाबाई की शिक्षाएं थीं।
वक्त पड़ा तो समर भूमि में,
लक्ष्मी,दुर्गा बन जाती है।।

जौहर व्रत की परम्परा थी,
अब दुश्मन को मार गिराती है।
धरती क्या अब अंतरिक्ष में,
अपना परचम फहराती है।।

सती अनुसुइया,सुलोचना की,
महिमा तो ज़ग ज़ाहिर है।
सत्यवान को यम के चंगुल से,
सावित्री ही छुड़ाकर लाती हैं।।

ज़ीवन के हर क्षेत्र में सदा से,
नारी का योगदान रहा।
जैसी ज़ब भी पड़ी ज़रूरत,
सारे धर्म निभाती है।।

पर विडम्बना आज़ भी वही,
नारी ,नारी का शोषण करती।
सास ,बहू के झगड़ों से दुनिया,
शर्मसार हो जाती हैं।।

शक्ति अलौलिक है नारी में,
सृजनशील , कर्मशील बनें।
विशिष्ट सफलता या असफलता में,
हरदम नारी होती है।।

Language: Hindi
1 Comment · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
"कवि"
Dr. Kishan tandon kranti
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
न्याय है इतना धीमा (कुंडलिया)
न्याय है इतना धीमा (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
रिश्ता कभी खत्म नहीं होता
Ranjeet kumar patre
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सुबह की पहल तुमसे ही
सुबह की पहल तुमसे ही
Rachana Jha
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
ये सफर काटे से नहीं काटता
ये सफर काटे से नहीं काटता
The_dk_poetry
एक  चांद  खूबसूरत  है
एक चांद खूबसूरत है
shabina. Naaz
गणतंत्र पर्व
गणतंत्र पर्व
Satish Srijan
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।
कैसे तय करें, उसके त्याग की परिपाटी, जो हाथों की लक़ीरें तक बाँट चली।
Manisha Manjari
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
अश्रुपात्र A glass of tears भाग 9
Dr. Meenakshi Sharma
.............सही .......
.............सही .......
Naushaba Suriya
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
Loading...