Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 14, 2016 · 1 min read

नारी शक्ति

जलता दीपक देता प्रकाश,
और ख़ुशी सभी को होती है।
पर दीपक की लौ के नीचे,
बाती जलती होती है ।।

शिशु जन्म और पालन पोषण,
माँ की ज़िम्मेदारी है।
शिशु ज़ीवन गढ़ने में माँ की,
अहम् भूमिका होती है।।

माँ होती है अन्नपूर्णा,
सरस्वती और दुर्गा भी।
रौद्ररूप जब धारण करती ,
महाकाली बन जाती है।।

वीर शिवा की विजय के पीछे,
माँ ज़ीज़ाबाई की शिक्षाएं थीं।
वक्त पड़ा तो समर भूमि में,
लक्ष्मी,दुर्गा बन जाती है।।

जौहर व्रत की परम्परा थी,
अब दुश्मन को मार गिराती है।
धरती क्या अब अंतरिक्ष में,
अपना परचम फहराती है।।

सती अनुसुइया,सुलोचना की,
महिमा तो ज़ग ज़ाहिर है।
सत्यवान को यम के चंगुल से,
सावित्री ही छुड़ाकर लाती हैं।।

ज़ीवन के हर क्षेत्र में सदा से,
नारी का योगदान रहा।
जैसी ज़ब भी पड़ी ज़रूरत,
सारे धर्म निभाती है।।

पर विडम्बना आज़ भी वही,
नारी ,नारी का शोषण करती।
सास ,बहू के झगड़ों से दुनिया,
शर्मसार हो जाती हैं।।

शक्ति अलौलिक है नारी में,
सृजनशील , कर्मशील बनें।
विशिष्ट सफलता या असफलता में,
हरदम नारी होती है।।

1 Comment · 160 Views
You may also like:
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमारी सभ्यता
अनामिका सिंह
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Mamta Rani
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
बंजारों का।
Taj Mohammad
हालात
Surabhi bharati
हाइकु:-(राम-रावण युद्ध)
Prabhudayal Raniwal
संगम....
Dr. Alpa H. Amin
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
शीतल पेय
श्री रमण
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
💐संसारे कः अपि स्व न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
तमन्नाओं का संसार
DESH RAJ
योग
DrKavi Nirmal
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
जम्हूरियत
बिमल
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
Loading...