Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

नारी का उत्थान

अन्तर्राष्ट्रीय महिलादिवस की हार्दिक बधाई

नारी के उत्थान में, है नारी का हाथ
देना होगा खुद उसे, नारी का ही साथ

अपनी ताकत को यहाँ , नारी बस पहचान
खुद पर कर विश्वास तू, यदि करना उत्थान

नारी है कोमल ह्रदय,कैसे बने कठोर
मगर समझ लेना नहीं , उसको तुम कमजोर

घर से अपने ही करो, नारी का उत्थान
बेटे बेटी को सदा, पालो एक समान

जंजीरें तो पाँव की, नारी अपनी तोड़
राह बना अपनी नई, नर की कर मत होड़

पूरा अपने लक्ष्य को, करो लगा जी जान
अपनी रक्षा का मगर , नारी रखना ध्यान

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
777 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
VINOD CHAUHAN
वोट दिया किसी और को,
वोट दिया किसी और को,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
#बड़ा_सच-
#बड़ा_सच-
*प्रणय प्रभात*
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
न जाने क्या ज़माना चाहता है
न जाने क्या ज़माना चाहता है
Dr. Alpana Suhasini
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
खामोश रहेंगे अभी तो हम, कुछ नहीं बोलेंगे
gurudeenverma198
वनिता
वनिता
Satish Srijan
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
खींच तान के बात को लम्बा करना है ।
Moin Ahmed Aazad
मुक्तक
मुक्तक
Yogmaya Sharma
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
Winner
Winner
Paras Nath Jha
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
आज अचानक आये थे
आज अचानक आये थे
Jitendra kumar
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
Loading...