Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।

नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
इश्क़ की चोट से पत्थर भी पिघल जाएंगे।
तूने धोखा दिया तो यूं समझ लेना सनम ।
हम तेरे इश्क़ में जीते जी मर जाएंगे।।
Phool gufran

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मानव मूल्य
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
वाह-वाह की लूट है
वाह-वाह की लूट है
Dr. Sunita Singh
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
देखें क्या है राम में .... (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में .... (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
नव लेखिका
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
क्यों बीते कल की स्याही, आज के पन्नों पर छीटें उड़ाती है।
Manisha Manjari
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
*अगर दूसरे आपके जीवन की सुंदरता को मापते हैं तो उसके मापदंड
Seema Verma
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
हमनें ढूंढा नहीं कभी खुद को
Dr fauzia Naseem shad
💐बस एक नज़र की ही तो बात है💐
💐बस एक नज़र की ही तो बात है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
चलो आज खुद को आजमाते हैं
चलो आज खुद को आजमाते हैं
कवि दीपक बवेजा
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
तेरा ही नाम ले लेकर रोज़ इबादत करती हूँ,
तेरा ही नाम ले लेकर रोज़ इबादत करती हूँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तूफान हूँ मैं
तूफान हूँ मैं
Aditya Prakash
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
जनवासा अब है कहाँ,अब है कहाँ बरात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...