Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2023 · 1 min read

नहीं मैं ऐसा नहीं होता

नहीं मैं ऐसा नहीं होता, अगर कभी ऐसा नहीं होता।
मैं भी होता सही इंसान, मुझपे गर जुल्म नहीं होता।।
नहीं मैं ऐसा नहीं होता——————।।

तुम्हारी आँखों के सामने, जलाये कोई तुम्हारा घर।
अगर मुझको मिलता इंसाफ, बेघर मैं नहीं होता।।
नहीं मैं ऐसा नहीं होता——————।।

जिसको करता था बहुत प्यार, अपनी मैं जान समझकर।
बनाता और नहीं मैं दोस्त, धोखा गर मुझसे नहीं होता।।
नहीं मैं ऐसा नहीं होता——————।।

बहुत उनकी मदद की थी, मुसीबत में जब वो थे।
मानते यदि वो अहसान, उनसे मैं दूर नहीं होता।।
नहीं मैं ऐसा नहीं होता——————-।।

किया नहीं ख्याल कभी मेरा, लहू का उनसे था रिश्ता।
देते वो प्यार- सम्मान मुझको तो, मैं बर्बाद नहीं होता।।
नहीं मैं ऐसा नहीं होता——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
2972.*पूर्णिका*
2972.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—2.
कवि रमेशराज
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
Dr. ADITYA BHARTI
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*Author प्रणय प्रभात*
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी तेरा रूप निराला
नारी तेरा रूप निराला
Anil chobisa
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐प्रेम कौतुक-278💐
💐प्रेम कौतुक-278💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
रहना चाहें स्वस्थ तो , खाएँ प्रतिदिन सेब(कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
सब तो उधार का
सब तो उधार का
Jitendra kumar
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
मेरे पास खिलौने के लिए पैसा नहीं है मैं वक्त देता हूं अपने ब
Ranjeet kumar patre
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
Er. Sanjay Shrivastava
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! चुनौती !!
!! चुनौती !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...