Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

नशा

बहुत बुरा है दौलत औ इख्तिदार का नशा
रिश्तों को कर देता है तबाह
==================
शबीनाज

Language: Hindi
204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
"मोहे रंग दे"
Ekta chitrangini
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
योग दिवस पर
योग दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
कभी रहे पूजा योग्य जो,
कभी रहे पूजा योग्य जो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दाना
दाना
Satish Srijan
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
नारी
नारी
नन्दलाल सुथार "राही"
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
ज्ञान से शिक्षित, व्यवहार से अनपढ़
पूर्वार्थ
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*Author प्रणय प्रभात*
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
sandeep kumar Yadav
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
इतना भी खुद में
इतना भी खुद में
Dr fauzia Naseem shad
कहते हैं संसार में ,
कहते हैं संसार में ,
sushil sarna
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...