Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2016 · 1 min read

नशा……………२

नशा……………२

नशा शराब का हो तो दिमाग के पट खोलता है
दिल मे दबे राजो को बडी आसानी से खोलता है
जुटा नही सकता जो हिमम्त दो लफ़्ज कहने की
वो बुजदिल भी फिर बडी बेबाकी से बोलता है ।।



डी. के. निवातियॉ_______@

Language: Hindi
4 Comments · 540 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
असुर सम्राट भक्त प्रहलाद – पूर्वजन्म की कथा – 03
असुर सम्राट भक्त प्रहलाद – पूर्वजन्म की कथा – 03
Kirti Aphale
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
उगते हुए सूरज और ढलते हुए सूरज मैं अंतर सिर्फ समय का होता है
Annu Gurjar
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
*जिंदगी के अनुभवों से एक बात सीख ली है कि ईश्वर से उम्मीद लग
Shashi kala vyas
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
घर के किसी कोने में
घर के किसी कोने में
आकांक्षा राय
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
जीनी है अगर जिन्दगी
जीनी है अगर जिन्दगी
Mangilal 713
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*Author प्रणय प्रभात*
आशा
आशा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
Shekhar Chandra Mitra
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
गोरा है वो फिर भी काला लगता है।
गोरा है वो फिर भी काला लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ पाने के लिए
कुछ पाने के लिए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*तुम न आये*
*तुम न आये*
Kavita Chouhan
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
*मॉं की गोदी स्वर्ग है, देवलोक-उद्यान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
दस्तक बनकर आ जाओ
दस्तक बनकर आ जाओ
Satish Srijan
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
How to keep a relationship:
How to keep a relationship:
पूर्वार्थ
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...