Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 27, 2016 · 1 min read

नव विहान

नव विहान
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
नव विहान नव ऊर्जा लेकर,
जगत पटल रोशन करता है ।
व्यग्र-तृप्त, हर्षित-विशाद पर
मानस नित दोलन करता है ।।

पंछी गण नव कलरव लेकर
गीत विहंगम नित्य सुनाती ।
जीवन के हर श्रृंग-गर्त को
समय सरि दोहन करती है ।।

निद्रित चेतन सर्द अनिल से
जागृत नित नूतन करता है ।
सत्व अनल सम आत्माग्नि को
सात्विक संशोधन करताहै ।।

सत्य और देवत्व हृदय में
नित्य ही आवाहन करता है ।
न्याय प्रेम की गुणवत्ता की
आत्मा नित मंथन करती है ।।

मानव में मानवता लाओ
जीवन के समरसता लाओ ।
बनके नित विनीत विनय ही
देवों सा जीवन बनता है ।।

????
सामरिक अरुण
NDS झारखण्ड
27/04/2016

1 Comment · 484 Views
You may also like:
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बहुमत
मनोज कर्ण
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बाबू जी
Anoop Sonsi
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
इश्क
Anamika Singh
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
Loading...