Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

नव विहान

नव विहान
〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰
नव विहान नव ऊर्जा लेकर,
जगत पटल रोशन करता है ।
व्यग्र-तृप्त, हर्षित-विशाद पर
मानस नित दोलन करता है ।।

पंछी गण नव कलरव लेकर
गीत विहंगम नित्य सुनाती ।
जीवन के हर श्रृंग-गर्त को
समय सरि दोहन करती है ।।

निद्रित चेतन सर्द अनिल से
जागृत नित नूतन करता है ।
सत्व अनल सम आत्माग्नि को
सात्विक संशोधन करताहै ।।

सत्य और देवत्व हृदय में
नित्य ही आवाहन करता है ।
न्याय प्रेम की गुणवत्ता की
आत्मा नित मंथन करती है ।।

मानव में मानवता लाओ
जीवन के समरसता लाओ ।
बनके नित विनीत विनय ही
देवों सा जीवन बनता है ।।

????
सामरिक अरुण
NDS झारखण्ड
27/04/2016

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 553 Views
You may also like:
हे काश !!
Akash Yadav
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
मेरी आँख वहाँ रोती है
Ashok deep
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
नया साल
सुषमा मलिक "अदब"
तुम्हारा मिलना
Saraswati Bajpai
जन्माष्टमी विशेष
Pratibha Kumari
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
*सही से यदि फॅंसा फंदा, तो फिर टाले न टलता...
Ravi Prakash
✍️किरदार ✍️
'अशांत' शेखर
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
उलझनों से तप्त राहें, हैं पहेली सी बनी अब।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सौ बात की एक
Dr.sima
'दीपक-चोर'?
पंकज कुमार कर्ण
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
अब मैं
gurudeenverma198
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
सुविचार
Godambari Negi
दुल्हन
Kavita Chouhan
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
मेरी आंखों के ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
संविधान बचाओ आंदोलन
Shekhar Chandra Mitra
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...