Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

“नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!”

नहीं चाहिए चाँदी-सोना, महलों को ठुकराऊँ,
कर दे मुझे निहाल, शरण मेँ तेरी बस सुख पाऊँ।

धूल, बिवाईँ सने पाँव, कैसे तेरे दर आऊँ।
मैली चादर भले, किन्तु निर्मल मन से गुहराऊँ।

कहाँ मिले मेवा-मिसरी, घृत, फल किस भाँति जुटाऊँ,
चना बतासा पास, किन्तु मैं विधि से भोग लगाऊँ।

रूखी-सूखी, मोटी रोटी खा, कर मैं इतराऊँ,
देवि कृपा कर, हर दिन मैं बस तेरे ही गुन गाऊँ।

नवसंवत्सर सबको शुभ हो, यह अरदास कराऊँ,
करो विश्व कल्याण, यही “आशा” फिर-फिर दुहराऊँ..!

—–##—————##————–##——-

Language: Hindi
11 Likes · 14 Comments · 597 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
** सपने सजाना सीख ले **
** सपने सजाना सीख ले **
surenderpal vaidya
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#शब्द_सुमन
#शब्द_सुमन
*प्रणय प्रभात*
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
आप लिखते कमाल हैं साहिब।
सत्य कुमार प्रेमी
--बेजुबान का दर्द --
--बेजुबान का दर्द --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
श्रीराम गाथा
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
आधुनिक नारी
आधुनिक नारी
Dr. Kishan tandon kranti
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
कल आंखों मे आशाओं का पानी लेकर सभी घर को लौटे है,
manjula chauhan
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
आज़माइश कोई
आज़माइश कोई
Dr fauzia Naseem shad
बीत गया सो बीत गया...
बीत गया सो बीत गया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
Loading...