Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

नववर्ष नवशुभकामनाएं

‘जीवन’ के नव वर्ष यह
सजे हैं स्वपनिल परिधानों से।
करो सुस्वागत तुम इसका
अपनी मधुर मुस्कानों से।।
नई उम्मीदें, नई आशाएं
भरे हैं नये अरमानों से।
करो संकल्प सच करने का
फिर नित नये कीर्तिमानों से।।
नये रास्ते, नई मंजिलें
हैं चुनौती ऑधी व तूफानों से।
अब पानी हैं हर मंजिल
ढूंढ लानी हैं खुशीयां विरानों से।।
यूं तो मुश्किलें होगी आगे
विकट बडी़ शैतानों से।।
पार पा लेगें हम सब
साथ मिले जब नौजवानों से।
नये वर्ष में कुछ बातें
हमें करनी हैं किसानों से।।
लेना हैं सबक सबको
लोगों की व्यर्थ गवाई जानों से।
भरे हुए हैं सब ग्रन्थ हमारे
ज्ञान-गुणों की खानों से।।
शक्तिमान बनी हैं सेनाएं
अपने बहादुर वीर जवानों से।
निज हित का कर त्याग
लगा दिल देश के विधानों से।।
करो नवराष्ट्र निर्माण तुम
अपने अमूल्य बलिदानों से।
‘जीवन’ का नव वर्ष यह
सजा है स्वपनिल परिधानों से।।
करो सुस्वागत तुम इसका
अपनी मधुर मुस्कानों से।

***********************
नववर्ष की शुभ बेला पर आप सभी को सपरिवार हार्दिक बधाई एंव शुभकामनाएं
-जीवनसवारो

Language: Hindi
1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
"तोहफा"
Dr. Kishan tandon kranti
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
हर सांझ तुम्हारे आने की आहट सुना करता था
Er. Sanjay Shrivastava
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
वो आए और देखकर मुस्कुराने लगे
Surinder blackpen
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
अनंत का आलिंगन
अनंत का आलिंगन
Dr.Pratibha Prakash
पहली बैठक
पहली बैठक "पटना" में
*Author प्रणय प्रभात*
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Sakshi Tripathi
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
Loading...