Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स

नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों से इंतजार है। आपके जीवन में आए सुख और समृद्धि, यही है मेरी दुआ और शुभकामना यार है।

मां दुर्गा के चरणों में हैं हम, नवरात्रि के इस पावन अवसर पर गाते हैं भजन। आपके जीवन में हमेशा बनी रहे खुशियों की धारा, यही है हमारी दिल से आई शुभकामना।

मां दुर्गा की आराधना का समय आया, नवरात्रि के इस पावन मौके पर भगवान से प्रार्थना है। सुख, समृद्धि, शांति हो आपके द्वार, यही है मेरी दुआ और शुभकामना सारा।

मां दुर्गा के दरबार में जुटे हैं हम, नवरात्रि के इस पावन अवसर पर गाते हैं भजन। आपके जीवन में आए सुख, समृद्धि और शांति, यही है हमारी दिल से आई शुभकामना।
साहिल अहमद

325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Mai deewana ho hi gya
Mai deewana ho hi gya
Swami Ganganiya
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
मानवता का शत्रु आतंकवाद हैं
Raju Gajbhiye
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
मुझमें एक जन सेवक है,
मुझमें एक जन सेवक है,
Punam Pande
*हथेली  पर  बन जान ना आए*
*हथेली पर बन जान ना आए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
First impression is personality,
First impression is personality,
Mahender Singh
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आवारा परिंदा
आवारा परिंदा
साहित्य गौरव
जन्मदिन शुभकामना
जन्मदिन शुभकामना
नवीन जोशी 'नवल'
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
#बाउंसर :-
#बाउंसर :-
*Author प्रणय प्रभात*
2632.पूर्णिका
2632.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...