Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

!!!!!! नवरात्रि का त्यौहार !!!!!

आया है नवरात्रि का, यह पावन त्यौहार।
धूम धाम चहुँओर है, गूंज रहे जय कार।।

जगमग करती रोशनी, शंख ध्वनि का तेज।
माता सिंह सवार है, जगमग करती सेज।।

नौ दिन का यह पर्व है, नौ माता के रूप।
शहर शहर हर गांव में , पूजे मात स्वरूप।।

देखो गरबे की धूम है, खुशियाँ है चहुँओर ।
लहर भक्ति की चल रही, हुई खुशनुमा भोर।।

मंत्रो के उच्चार से, होते शुद्ध विचार।
मन रमता है भक्ति में, शान्ति मिलती अपार।।

जो श्रद्धा पूर्वक करें, माता का उपवास।
मां दुर्गा पूरी करें, उसके मन की आस।।

आओ हम आराधना, करे झुकाकर शीश।
गाए हम नित आरती, कहता है जगदीश।।
—-जेपी लववंशी, हरदा मध्य प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी मलम की माँग
मेरी मलम की माँग
Anil chobisa
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
माँ
माँ
Arvina
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
उम्मीदें  लगाना  छोड़  दो...
उम्मीदें लगाना छोड़ दो...
Aarti sirsat
विपक्ष ने
विपक्ष ने
*प्रणय प्रभात*
"डोली बेटी की"
Ekta chitrangini
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
वो बाते वो कहानियां फिर कहा
Kumar lalit
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
"कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
महामहिम राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू जी
Seema gupta,Alwar
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
समाधान से खत्म हों,आपस की तकरार
Dr Archana Gupta
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
Dr.sima
उन वीर सपूतों को
उन वीर सपूतों को
gurudeenverma198
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
🙏
🙏
Neelam Sharma
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*छूकर मुझको प्रभो पतित में, पावनता को भर दो (गीत)*
*छूकर मुझको प्रभो पतित में, पावनता को भर दो (गीत)*
Ravi Prakash
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
Loading...