Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2023 · 1 min read

नवजात बहू (लघुकथा)

नवजात बहू (लघुकथा)
पिता की मृत्यु के बाद मोहन ने ही अपनी छोटी बहन छवि को पढ़ाया-लिखाया और अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान दहेज देकर एक शहरी परिवार में उसकी शादी कर दी। किन्तु उसकी सास आये दिन उसका ताना दे-देकर मानसिक उत्पीड़न करती रहती थी। समय के साथ ही मां के कहने पर मोहन ने भी शादी कर अपना घर बसा लिया और उसके घर प्यारी सी बेटी ने जन्म लिया। उधर छवि की ननद दीपा को भी पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई। इधर छवि की सास का उत्पीड़न उसके प्रति बढ़ता ही जा रहा था एक दिन मोहन अपनी एक वर्षीय पुत्री को लेकर दीपा के घर पहुंच गया और यह कहते हुए अपनी पुत्री दीपा को थमा दी कि इसे आप खुद ही रखो और सिखाओ-पढ़ाओ अन्यथा भविष्य में कभी तुम्हारे बेटे से इसका रिश्ता हुआ तो तुम भी यही कहोगी जो तुम्हारी माँ मेरी बहन छवि से कहती है कि “मायके वालों के सिखाये में चल रही है।” दीपा की ससुराल के सभी सदस्य निरुत्तर मौन खड़े मोहन का मुंह देख रहे थे।
-दुष्यन्त ‘बाबा’
पुलिस लाईन, मुरादाबाद।

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
जीवन में कितना ही धन -धन कर ले मनवा किंतु शौक़ पत्रिका में न
Neelam Sharma
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
जिंदगी
जिंदगी
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
बॉस की पत्नी की पुस्तक की समीक्षा (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
नाक पर दोहे
नाक पर दोहे
Subhash Singhai
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
चले न कोई साथ जब,
चले न कोई साथ जब,
sushil sarna
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
हर बार सफलता नहीं मिलती, कभी हार भी होती है
पूर्वार्थ
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
यूॅं बचा कर रख लिया है,
यूॅं बचा कर रख लिया है,
Rashmi Sanjay
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...