Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि ह

नये पुराने लोगों के समिश्रण से ही एक नयी दुनियाँ की सृष्टि होती है ! इतिहास के ही नींव पर नयी इमारत खड़ी होती है ! इतिहास को कोई नहीं बदल सकता ! आप नया अध्याय भले ही जोड़ सकते हैं बस !@परिमल

272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन की नैया
जीवन की नैया
भरत कुमार सोलंकी
"तगादा का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
Kumud Srivastava
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
निराली है तेरी छवि हे कन्हाई
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
Arun Kumar Yadav
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
नरक और स्वर्ग
नरक और स्वर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
Rj Anand Prajapati
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कैसे गीत गाएं मल्हार
कैसे गीत गाएं मल्हार
Nanki Patre
बुक समीक्षा
बुक समीक्षा
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
मुश्किलें हौसलों को मिलती हैं
मुश्किलें हौसलों को मिलती हैं
Dr fauzia Naseem shad
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
उस रिश्ते की उम्र लंबी होती है,
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...